Bawasir Kya Hota Hai? जान लें इसका कारण, लक्षण, निदान और इलाज

 


बवासीर (Bawasir Kya Hota Hai) को पाइल्स के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें गुदा के अंदर या बाहर की नसों में सूजन आ जाती है। यह सूजन मल त्याग के दौरान दर्द, खुजली एवं रक्तस्राव का कारण बन सकती है। वैसे तो यह बीमारी किसी को भी हो सकती है लेकिन 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में बवासीर ज्यादा आम होता है।



इस बारे में कंसल्टेंट सर्जन, डॉ. शरद कुमार शर्मा का कहना है कि खानपान में गड़बड़ी के कारण बवासीर आज एक कॉमन समस्या बन चुकी है। युवा पीढ़ी भी इसकी चपेट में आ रही है। जिन लोगों को कब्ज की शिकायत है, उनमें पाइल्स (Piles Meaning in Hindi) होने का खतरा बना रहता है।  


बवासीर (Bawasir Kya Hota Hai) के प्रकार

बवासीर को दो मुख्य प्रकारों में बांटा जा सकता है:

1. आंतरिक बवासीर

ये बवासीर गुदा के अंदर होती हैं। वे आमतौर पर दर्द नहीं करती हैं, लेकिन रक्तस्राव का कारण बन सकती हैं।

2. बाहरी बवासीर

ये बवासीर गुदा के बाहर होती हैं। ये दर्दनाक हो सकती हैं और गुदा से बाहर निकल सकती हैं।


बवासीर यानी कि पाइल्स (Piles Meaning in Hindi) के लक्षण 

बवासीर (Bawasir Kya Hota Hai) में निम्नलिखित लक्षण नजर आते हैं-
  • मल त्याग के दौरान दर्द, खुजली या जलन
  • गुदा से रक्तस्राव, जो आमतौर पर मल त्याग के बाद होता है
  • गुदा के आसपास एक गांठ या मस्सा बनना
  • गुदा में भारीपन या दबाव महसूस होना
इस बीमारी के लक्षण असुविधाजनक या चिंताजनक हो सकते हैं, लेकिन वे अक्सर कुछ दिनों के बाद अपने आप ठीक हो जाते हैं। 


क्यों होता है बवासीर?

बवासीर के कई संभावित कारण हैं, जिनमें शामिल हैं:

1. गर्भावस्था

गर्भावस्था के दौरान, मलाशय में ऊतक कमजोर हो जाते हैं और हार्मोन के कारण नसें शिथिल हो जाती हैं और उनमें सूजन आ जाती है। 35% तक गर्भवती महिलाओं को बवासीर से गुजरना पड़ सकता है।

2. उम्र बढ़ना

बवासीर 50 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों में सबसे आम है। हालांकि, युवा और बच्चे भी इसका शिकार हो सकते हैं।

3. दस्त

दीर्घकालिक दस्त के मामलों के बाद बवासीर हो सकता है।

4. पुरानी कब्ज

मल त्याग के दौरान जरूरत से ज्यादा जोर लगाने से रक्त वाहिकाओं की दीवारों पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है, जिसके परिणामस्वरूप बवासीर (Bawasir Kya Hota Hai) हो सकता है।

5. बहुत देर तक बैठे रहना

लंबे समय तक बैठे रहने से विशेषकर शौचालय में, बवासीर का कारण बन सकता है।

6. फाइबर की कमी

खाने में पर्याप्त मात्रा में फाइबर का न होना इस बीमारी का कारण बन सकता है।

7. भारी सामान उठाना

बार-बार भारी सामान उठाने से भी बवासीर हो सकता है।


8. अधिक वजन

शोधों की मानें तो अधिक वजन होना भी बवासीर के संभावित कारणों में शामिल है। यह पेट के भीतर बढ़ते दबाव के परिणामस्वरूप हो सकता है।

9. आनुवंशिकी

कुछ लोगों को बवासीर विकसित होने की प्रवृत्ति विरासत में मिलती है। कहने का मतलब यह है कि अगर परिवार के किसी सदस्य को बवासीर (Bawasir Kya Hota Hai) है, तो नयी पीढ़ी को भी यह बीमारी हो सकती है। 


बवासीर का निदान और इलाज (Bawaseer ka Ilaj)

बवासीर का निदान आमतौर पर एक साधारण चिकित्सा इतिहास और शारीरिक परीक्षा से किया जा सकता है। बाहरी बवासीर आम तौर पर स्पष्ट होती है, खासकर अगर रक्त का थक्का बन गया हो तो। मल में रक्त की जांच के लिए चिकित्सक एक डिजिटल रेक्टल परीक्षण कर सकता है। इसके अलावा एनोस्कोप से भी गुदा नलिका की जांच की जा सकती है, जो रोशनी के साथ मलाशय में डाली गई एक छोटी प्लास्टिक ट्यूब होती है। यदि रेक्टल ब्लीडिंग का पता चलता है, तो रक्तस्राव के अन्य कारणों, जैसे कोलोरेक्टल पॉलीप्स या कैंसर का पता लगाने के लिए मरीज की सिग्मायोडोस्कोपी या कोलोनोस्कोपी की जा सकती है।

इलाज

बवासीर (Bawasir Kya Hota Hai)  के इलाज के कई तरीके हैं, जो स्थिति की गंभीरता पर निर्भर करते हैं।

हल्का बवासीर आमतौर पर घरेलू उपचारों के साथ ठीक हो जाता है, जैसे कि-

  • फाइबर युक्त आहार का सेवन करना
  • पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ पीना
  • मल त्याग करते समय जोर न लगाना
  • गुदा क्षेत्र को साफ और सूखा रखना
  • गर्म पानी से स्नान या गुदा क्षेत्र की सिकाई करना

मध्यम बवासीर के लिए, डॉक्टर निम्नलिखित उपचारों की सिफारिश कर सकते हैं-

  • मल नरम करने वाली दवाइयां
  • रक्तस्राव को रोकने के लिए दवाइयां
  • बवासीर को अंदर की ओर धकेलने के लिए एक रबर बैंड का उपयोग

गंभीर बवासीर के लिए डॉक्टर सर्जरी की सिफारिश कर सकते हैं। सर्जरी के कई प्रकार हैं, जिनमें शामिल हैं-

i) हेमोराइडेक्टोमी

इस प्रक्रिया में बवासीर को काटकर हटा दिया जाता है।

ii) रक्त वाहिकाओं को बंद करना

इस प्रक्रिया में बवासीर के आसपास की रक्त वाहिकाओं को बंद कर दिया जाता है, जिससे सूजन कम हो जाती है।


बवासीर से बचाव कैसे करें?

जीवनशैली में बदलाव से बवासीर (Bawasir Kya Hota Hai) के खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है। इसमें शामिल है-

1) स्वस्थ आहार लेना

फल, सब्जियाँ और साबुत अनाज जैसे फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ खाने से मल को नरम रखने में मदद मिलती है। ओटीसी फाइबर सप्लीमेंट लेने और हाइड्रेटेड रहने से भी कब्ज से राहत मिल सकती है। अगर कब्ज नहीं होगा तो बवासीर का खतरा कम हो सकता है।

2) तनाव से बचें

एक व्यक्ति को शौचालय का उपयोग करते समय तनाव न लेने का प्रयास करना चाहिए। तनाव से निचले मलाशय की नसों पर दबाव पड़ता है।

3) जरूरत पड़ने पर बाथरूम जाना

शौचालय का उपयोग करने के लिए इंतजार करने से बचना सबसे अच्छा है। व्यक्ति जितना अधिक समय तक प्रतीक्षा करेगा, उसका मल उतना ही अधिक शुष्क होगा।


4) नियमित शारीरिक गतिविधि करना

व्यायाम मल को आंत के माध्यम से आगे बढ़ने में मदद करता है, जिससे मल त्याग अधिक नियमित हो जाता है।


5) शरीर का सामान्य वजन बनाए रखना

अधिक वजन होने से बवासीर होने का खतरा बढ़ जाता है। इसीलिए, वजन को नियंत्रित रखने पर फोकस करना चाहिये। 


निष्कर्ष (Conclusion)

बवासीर (Bawasir Kya Hota Hai) एक आम समस्या है, जिसका इलाज संभव है। यदि आपको बवासीर के लक्षण दिखाई देते हैं, तो डॉक्टर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। डॉक्टर आपके लिए सबसे अच्छा उपचार विकल्प निर्धारित करने में आपकी सहायता कर सकते हैं।


Reference


1. Sharma, S.K., 2023. बवासीर क्या होता है? DocTube. Available at: (Accessed: 3 January 2024).

2. NIDDK, 2016. Definition & Facts of Hemorrhoids. Available at: (Accessed: 3 January 2024).

3. Goodwin, M., 2023. Hemorrhoids: Causes, treatments, and prevention Medical News Today. MediLexicon International. Available at: (Accessed: 3 January 2024).

4. Hemorrhoids and what to do about them (2021) Harvard Health. Available at: (Accessed: 3 January 2024).


FAQ

  बवासीर होने के क्या कारण हैं?  
   

अधिक वजन, कब्ज, प्रेगनेंसी, खाने में फाइबर की कमी, तनाव व अन्य कारणों से व्यक्ति को बवासीर हो सकता है।

 
  बवासीर का घरेलू उपचार क्या है?  
   

फाइबर युक्त आहार एवं पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ का सेवन, मल त्याग करते समय जोर न लगाना, गुदा क्षेत्र को साफ और सूखा रखना, गर्म पानी से स्नान या गुदा क्षेत्र की सिकाई करने से बवासीर के लक्षणों से राहत मिल सकती है।

 

No comments

Note: Only a member of this blog may post a comment.

Powered by Blogger.